Shreemad Bhagwat Geeta | श्रीमद भगवत गीता सम्पूर्ण श्लोक अर्थ सहित

Shreemad Bhagwat Geeta | श्रीमद भगवत गीता सम्पूर्ण श्लोक अर्थ सहित 

Shreemad Bhagwat Geeta | श्रीमद भगवत गीता सम्पूर्ण श्लोक अर्थ सहित


Shree mad Bhagwat Geeta is a collection of Sanskrit shlokas from the Mahabharat, a very ancient history of Hindus. Bhagvat Geeta starts from chapter 25th of Bhishma parv of Mahabharat. In Geeta the conversation between Krishna and Arjuna is portrayed. The best thing about Geeta is that it does not favor any religion, caste, cult, and creed. any person from any part of the world, of any religion, of any ideology, can read it and get the great knowledge shared by Krishna. In this the warrior Arjuna gets panicked due to affection with family members when he saw his all relatives ready to fight in front of him . he gave away the thought of fighting the battle and surrendered himself to his friend and Charioteer Krishna to guide him what to do. then Krishna guided him to stood up and fight and gave him a very secret discourse which is very profound that whole discourse is known as shreemad  Bhagwat Geeta. In this discourse Krishna told Arjuna about the three Yogas(methods) which are 1. Karmayoga 2. Jyanyoga 3. Bhakti yoga. these three methods are the pathways to nirvana. if one practices any one method out of these he gets free from the bond with the physical world which is mortal in nature and connects with the supreme entity, which is immortal and present everywhere. Bhagwat Geeta is given in the Hindi with English language also to make understand the people who do not know devnagri. Geeta has 18 chapters containing 700 shlokas. 

श्रीमद भगवत गीता भारतीय महाकाव्य महाभारत से संस्कृत श्लोकों का एक संग्रह है। श्रीमद भगवत गीता महाभारत के भीष्मपर्व के 25 वें अध्याय से शुरू होती है। भगवत गीता में कृष्ण और अर्जुन के बीच की बातचीत को चित्रित किया गया है। इसमें योद्धा अर्जुन जब अपने रिश्तेदारों को उसके सामने लड़ने के लिए तैयार देखता है तो वह कुटुम्ब मोह के कारण घबरा जाता है। उसने लड़ाई लड़ने का विचार छोड़ दिया और अपने मित्र और सारथी कृष्ण को आत्मसमर्पण कर दिया कि वह क्या करे। तब कृष्ण ने उन्हें खड़े होने और लड़ने के लिए निर्देशित किया और उन्हें एक बहुत ही गुप्त प्रवचन दिया जो बहुत गहन है। पूरे प्रवचन को श्रीमद भगवत गीता के रूप में जाना जाता है। इस प्रवचन में कृष्ण ने अर्जुन को तीन योगों (विधियों) के बारे में बताया जो कि हैं 1. कर्मयोग 2. ज्ञानयोग 3. भक्तियोग। ये तीन विधियां निर्वाण के मार्ग हैं। यदि कोई इनमें से किसी एक विधि का अभ्यास करता है, तो वह भौतिक संसार के बंधन से मुक्त हो जाता है, जो प्रकृति में नश्वर है और सर्वोच्च इकाई से जुड़ता है, जो अमर है और हर जगह मौजूद है। श्रीमद भगवत गीता में 18 अध्याय हैं जिनमें 700 श्लोक हैं।


Content :

  • Chapter 1 प्रथम अध्याय -अर्जुनविषादयोग
  • Chapter 2 द्वितीय अध्याय  - सांख्ययोग
  • Chapter 3 तृतीय अध्याय  - कर्मयोग 
  • Chapter 4 चतुर्थ अध्याय  - ज्ञानकर्मसंन्यासयोग
  • Chapter 5 पंचम अध्याय - कर्मसंन्यासयोग 
  • Chapter 6 षष्ट अध्याय - आत्मसंयमयोग 
  • Chapter 7 सप्तम अध्याय  - ज्ञानविज्ञानयोग 
  • Chapter 8 अष्टम अध्याय - अक्षरब्रह्मयोग
  • Chapter 9 नवम अध्याय - राजविद्याराजगुह्ययोग 
  • Chapter 10 दशम अध्याय  - विभूतियोग 
  • Chapter 11 एकादश अध्याय  - विश्वरूपदर्शनयोग 
  • Chapter 12 द्वादश अध्याय  - भक्तियोग 
  • Chapter 13 त्रयोदश अध्याय  -क्षेत्र-क्षेत्रज्ञविभागयोग 
  • Chapter 14 चतुर्दश अध्याय  - गुणत्रयविभागयोग 
  • Chapter 15 पंचदश अध्याय  - पुरुषोत्तमयोग 
  • Chapter 16 षोडश अध्याय  - दैवासुरसम्पद्विभागयोग 
  • Chapter 17 सप्तदश अध्याय  - श्रद्धात्रयविभागयोग 
  • Chapter 18 अष्टादश अध्याय  - मोक्षसंन्यासयोग 

Chapter-1   

प्रथमोऽध्याय - अर्जुनविषादयोग

 Chapter-2   

द्वितीयोऽध्यायः ~ सांख्ययोग

Post a Comment

0 Comments